मधुबन में शुरू हुई जिनबिंब पंचकल्याणक प्रतिष्ठा - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, December 8, 2018

मधुबन में शुरू हुई जिनबिंब पंचकल्याणक प्रतिष्ठा


शोभायात्रा में शामिल भक्तगण
जैनियों के प्रसिद्व तीर्थस्थल मधुबन में शनिवार को जिनबिंब पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव एवं विश्व शांति महायज्ञ का आयोजन किया गया। यह प्रतिष्ठा महोत्सव 13 दिसबर तक चलेगा। इस अवसर पर मधुबन स्थित श्री दिगंबर जैन तेरहपंथी कोठी से शोभायात्रा निकाली गयी। कार्यक्रम के दौरान भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी।
      बताया जाता है कि मधुबन में आयोजित जिनबिंब पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव के प्रथम दिन भक्तों द्वारा शोभायात्रा निकाली गयी। यह शोभायात्रा मधुबन स्थित श्री दिगंबर जैन तेरहपंथी कोठी से निकलकर सौरभांचल स्थित पंडाल पहुंची। इसी शोभायात्रा में गणाचार्य विराग सागर जी महाराज भी चल रहे थे। शोभायात्रा के पूर्व सौरभांचल में बने पंडाल में देव आज्ञा, गुरूआज्ञा, प्रतिष्ठाचार्य निमंत्रण व घटयात्रा का आयोजन किया गया। साथ ही साथ ध्वजारोहण, मंडप उद्धाटन व वेदी शुद्धी भी की गयी। वहीं शोभायात्रा बाद भी दर्जनाधिक धार्मिक विधियां पूरी की गयी। आचार्य श्री के सान्निध्य में मंडप पर कलश स्थापना, अखंड ज्योति स्थापना, यागमंडल विधान आदि का आयोजन किया गया। वहीं दोपहर में आचार्य श्री का प्रवचन हुआ जिसमें आचार्य श्री पंचकल्याणक प्रतिश्ठा में होने वाले विधान का महत्व बताया। साथ ही साथ हर एक विधान को किस भाव से पूरा करना चाहिए यह भी जानकारी दी गयी।
                           वहीं शाम में मंगल आरती, इन्द्र दरबार, सोलह स्वप्न दर्शन व गर्भकल्याक क्रियाएं पूरी की गयी। बताया जाता है कि इस छह दिवसीय कार्यक्रम में प्रतिदिन अलग अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाऐंगे। इसी क्रम में रविवार को मंत्र आराधना, गर्भ कल्याणक पूजा, हवन,  आचार्य श्री का प्रवचन आदि का कार्यक्रम आयोजित किए जाऐंगे। इस कार्यक्रम को ले जहां पंडाल और अणिंदा पाश्र्वनाथ मंदिर को आकर्षक ढंग से सजाया संवार गया है। वहीं पूरा मधुबन मार्ग लाइट से जगमगा रहा है। वहीं धार्मिक कार्यक्रमों से मधुबन का वातारण भक्तिमय हो गया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages