'जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान' - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

गुरुवार, 3 जनवरी 2019

'जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान'

कार्यक्रम में शामिल प्रधानमंत्री
विज्ञान ने देश के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया है। विज्ञान को सामान्य लोगों से जोड़ना होगा और देश के उन्नति के लिए सस्ते व कारगर तकनीक विकसित करनी होगी। उक्त बातें देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कही, उन्होंने गुरूवार को  जालंधर के फगवाड़ा स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) में 106वीं इंडियन साइंस कांग्रेस का उद्घाटन किया। इसी क्रम में जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान का भी नारा दिया।
                    प्रधानमंत्री ने कहा कि विज्ञान  को देश के  सामान्य लोगों से जोड़ने की जरूरत है । हमें दुनिया की लीडरशिप लेने के लिए बहुत कुछ करना है। लोगों के जीवन के सभी पहलुओं को आसान बनाने के लिए काम करना होगा। विज्ञान का देश की प्रगति और लोगों के कल्याण में बहुत महत्व है। आज जरूरी है कि कम कीमत मेें कारगर तकनीक विकसित किए जाने की जरूरत है। खासकर किसानों के लिए ऐसे तकनीक का विकास बेहद जरूरी है। बंजर धरती को उपजाऊ, कम वर्षा की समस्या से निजात दिलाने की दिशा मे काम किए जाने की जरूरत है।

                      आगे कहा कि कई सवालों पर मंथन किया जाना आवश्यक है। क्या हम अपने देश की कम बारिश वाले इलाकों में बेहतर और वैज्ञानिक ढंग से ड्रोन मैनेजमेंट पर काम कर सकते हैं। क्या प्राकृतिक आपदाओं की भविष्यवाणी के क्षेत्र में और सुधार कर सकते हैं। इन सवालों के हल से कृषि क्षेत्र को फायदा तो होगा ही तमाम लोगों की जिंदगी को भी बचाया जा सकता है। हमें सोचना होगा कि क्या हम हम देश में दशकों से चली आ रही मानवीय समस्याओं के समाधान के लिए टेक्नोलॉजी का बेहतर उपयोग कर सकते हैं। इनसे हम अपने बच्चों को चिकनगुनिया जैसी बीमारियों को बचा सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages