सफलता पाने के लिए मेहनत के साथ साथ ये सूत्र भी अपनाएं - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

रविवार, 15 सितंबर 2019

सफलता पाने के लिए मेहनत के साथ साथ ये सूत्र भी अपनाएं

प्रतीकात्मक फोटो  (गूगल सर्च)


मेहनत का कोई विकल्प नहीं होता। अगर आप अपने आपको किसी भी क्षेत्र में सफल होते देखना चाहते हैं तो आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। मेहनत भी वैसी जो ईमानदारी से की गयी हो। आज हम कुछ ऐसे सूत्र बता रहे हैं जो आपकी मेहनत को और भी प्रभावी सकारात्मक परिणाम देने वाला बना देगा।
1. जम कर करें मेहनत - आपने कही नौकरी शुरू की हो या फिर खुद का काम पहली शर्त यह कि पहले तन से खूब मेहनत कीजिये। उसके बाद मेहनत से कमाए गये धन को किफायत से खर्च करें। इसी क्रम में धन को संजो कर रखें या फिर मौलिक पूंजी बनाएं। यकीन मानिए मेहनत की पूंजी से तैयार व्यापर एक दिन रंग जरूर लायेगा। 

2. छल प्रपंच से दूर रहें - छल प्रपंच से भले ही क्षणिक लाभ दीखता हो पर यह लंबे समय तक सफलता के शिखर पर टिकने नहीं देता। व्यापार तो एक झूठ आदमी भी कर सकता है पर प्रतिष्ठा उस व्यक्ति या दुकान को मिलती है जहां सब के लिए एक ही नीति, व्यवस्था ओर पारदर्शिता अपनाई जाती हो।

3. सहयोग करना सीखें - सफलता का संबंध महज व्यापार करियर से नहीं है। सबके साथ विनम्रता, और मिठास से पेश आना, आसपास के लोगों का सहयोग करना। स्वार्थ से ऊपर उठकर गैर इंसानों के काम आना भी सफलता के ही आयाम हैं। विपरीत वातावरण बन जाने पर भी खुद पर संयम और धैर्य रखना भी सफलता की निशानी है।

4. पूरे उत्साह से करें दिन की शुरुवात - सफलता के लिए यह यह आवश्यक है कि अपने हर दिन की शुरुवात स्वस्थ्य मन से कीजिये। सुबह सवेरे वही काम कीजिये जिससे आपका मन प्रसन्न हो। चाहे तो आप योग कर  सकते हैं या फिर टहलने भी जा सकते हैं। और जब कार्यस्थल पर पहुचें पूरी तन्मयता से अपने काम को अंजाम दें। अपने ग्राहकों को देवता मान उसके साथ सलीके से व्यवहार करना शुरू कर दें। यकीनन परिणाम चकित करने वाला होगा।

5. जो भी करें मन से करें - जो कुछ भी करें पूरे मन से करें।यदि आप छात्र हैं तो मन लगाकर पढ़िये। व्यापारी हैं तो मन लगाकर व्यापर कीजिये और धार्मिक हैं तो मन से आराधना किजिये। यह याद एखने की जरूरत है कि मन लगाकर की गयी मेहनत सर्वोच्च स्थान दिलाती है।

6. सरल बनें - अपनी कार्यशैली को बेहतर बनायें साथ ही साथ मेहनत की कुल्हाड़ी पर बार बार धार लगाते रहें। यह सब करते रहें पर अपने आपको सर्वदा सरल बनायें रखें। कहा जाता है कि ज्ञानी की सरलता और अमीर की विनम्रता ज्ञान और धन से भी ज्यादा प्रभावी होता है।

7. मनोबल ऊंचा रखें - अपने मनोबल को पंगु होने से बचाये। मनोबल टूट गया तो जीवन की नाव डगमगाने लगेगी। यह सोचकर खुद पर भरोसा रखिये कि प्रकृति किसी को भी व्यर्थ में जन्म नहीं देती।

8. अच्छी पुस्तक पढ़ें - पुस्तकों को अपना साथी बनाइये। ये किसी मित्र की तरह जहां हमारा मार्गदर्शन करती रहेगी वहीं हमारा साहस और आत्मविश्वास भी बढाती रहेगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Pages