फ्रोजन 2 : मायावी दुनिया की रोमांचक यात्रा - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शनिवार, 23 नवंबर 2019

फ्रोजन 2 : मायावी दुनिया की रोमांचक यात्रा

फ्रोजन 2 वर्ष 2013 में आयी एनिमेटेड फिल्म फ्रोजन की अगली कड़ी है। छह साल बाद आयी इस सीक्वल में कुछ नए किरदार जुड़ते हैं और कहानी नए पड़ाव की ओर बढ़ती है। फ्रोजन 2 में भी कहानी की शुरूआत एल्सा और आना के बचपन के फ्लैशबैक से होती है। उनके पिता उन्हें मायावी जंगल के बारे में बताते हैं। यह भी बताते हैं कि जंगल में एक कबीला रहता था। कबीले के लोगों ने उनके दादाजी महाराज रोनाल्ड से दोस्ती बढ़ाने की कोशिश की। दादा ने अमन के तोहफे के तौर पर बांध बनाया। जंगल में जश्न के दौरान कबीले और रोनाल्ड की सेना के बीच खूनी संग्राम हो जाता है। जंगल पर कोहरे की चादर बिछ जाती है। एल्सा को रहस्यमयी आवाजें सुनायी देती है। युवा एल्सा उस आवाज की खोज में जाने का फैसला करती है।
     इस एनीमेटेड फिल्म में वीएफएक्स का प्रयोग अद्वीतीय है। यहां पर एल्सा के जादू के साथ उनकी कल्पना दूर तक उड़ान भरती दिखती है। फिल्म में एल्सा का समुद्र की लहरों पर बर्फ के घोड़े की सवारी करने के दृश्य मनोरम हैं। जीव जंतुओं की भाव भंगिमायें दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान ले आती हैं। इस सीरीज की बड़ी खूबी महिला पात्रों एल्सा और आना का सशक्त होना है।
  इस बार भी फिलम का निर्देशन क्रिस बक और जेनिफर ली ने किया है। हलांकि रहस्यमयी आवाज को ढूंढने ंके सफर में रोमांच नहीं है। सीक्वल में किरदारों को ज्यादा विकसित दिखने की कोशिश होती है। बहनों को अपने माता पिता की मृत्यु और पृष्ठभूमी के बारे में अधिक जानकारी मिलती है। इसमें ह्यूमर का भी समावेश है। फिर भी कहीं कहीं लेखक पिछडे हुए दिखते हैं। फिल्म में गानों की अधिकता है। अब हिंदी में डब की गयी फिल्म की बात करें तो एल्सा को प्रियंका चोपड़ा जोनास ने आवाज दी है। वहीं आना की डबिंग परिणीति चोपड़ा ने की है। बहनों की आवाज उनकी किरदारों पर जंचती है। मनीश पाॅल द्वारा क्रिस्टाफ और देवेन भेजानी द्वारा ओलाफ की डबिंग किरदारों पर फबती है।
इस समीक्षा को किसी विषेशज्ञ की फिल्म समीक्षा के रूप में न देखें। एक दर्शक के रूप में मैनें जैसा अनुभव किया ठीक उसी अनुभव को कलमबद्ध कर दिया है। अगर मुझसे इस फिल्म की रेटिंग पूछी जाय तो मेरा जवाब पांच में से तीन स्टार होगा।

फ्रोजन 2 - मायावी दुनिया की रोमांचक यात्रा
फ्रोजन 2 वर्ष 2013 में आयी एनिमेटेड फिल्म फ्रोजन की अगली कड़ी है। छह साल बाद आयी इस सीक्वल में कुछ नए किरदार जुड़ते हैं और कहानी नए पड़ाव की ओर बढ़ती है। फ्रोजन 2 में भी कहानी की शुरूआत एल्सा और आना के बचपन के फ्लैशबैक से होती है। उनके पिता उन्हें मायावी जंगल के बारे में बताते हैं। यह भी बताते हैं कि जंगल में एक कबीला रहता था। कबीले के लोगों ने उनके दादाजी महाराज रोनाल्ड से दोस्ती बढ़ाने की कोशिश की। दादा ने अमन के तोहफे के तौर पर बांध बनाया। जंगल में जश्न के दौरान कबीले और रोनाल्ड की सेना के बीच खूनी संग्राम हो जाता है। जंगल पर कोहरे की चादर बिछ जाती है। एल्सा को रहस्यमयी आवाजें सुनायी देती है। युवा एल्सा उस आवाज की खोज में जाने का फैसला करती है।
     इस एनीमेटेड फिल्म में वीएफएक्स का प्रयोग अद्वीतीय है। यहां पर एल्सा के जादू के साथ उनकी कल्पना दूर तक उड़ान भरती दिखती है। फिल्म में एल्सा का समुद्र की लहरों पर बर्फ के घोड़े की सवारी करने के दृश्य मनोरम हैं। जीव जंतुओं की भाव भंगिमायें दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान ले आती हैं। इस सीरीज की बड़ी खूबी महिला पात्रों एल्सा और आना का सशक्त होना है।
  इस बार भी फिलम का निर्देशन क्रिस बक और जेनिफर ली ने किया है। हलांकि रहस्यमयी आवाज को ढूंढने ंके सफर में रोमांच नहीं है। सीक्वल में किरदारों को ज्यादा विकसित दिखने की कोशिश होती है। बहनों को अपने माता पिता की मृत्यु और पृष्ठभूमी के बारे में अधिक जानकारी मिलती है। इसमें ह्यूमर का भी समावेश है। फिर भी कहीं कहीं लेखक पिछडे हुए दिखते हैं। फिल्म में गानों की अधिकता है। अब हिंदी में डब की गयी फिल्म की बात करें तो एल्सा को प्रियंका चोपड़ा जोनास ने आवाज दी है। वहीं आना की डबिंग परिणीति चोपड़ा ने की है। बहनों की आवाज उनकी किरदारों पर जंचती है। मनीश पाॅल द्वारा क्रिस्टाफ और देवेन भेजानी द्वारा ओलाफ की डबिंग किरदारों पर फबती है।
इस समीक्षा को किसी विषेशज्ञ की फिल्म समीक्षा के रूप में न देखें। एक दर्शक के रूप में मैनें जैसा अनुभव किया ठीक उसी अनुभव को कलमबद्ध कर दिया है। अगर मुझसे इस फिल्म की रेटिंग पूछी जाय तो मेरा जवाब पांच में से तीन स्टार होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages