ऐसे होते हैं सिंह राशि के जातक - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

गुरुवार, 14 नवंबर 2019

ऐसे होते हैं सिंह राशि के जातक

  सिंह राशि - पुरूष जाति, स्थिर संज्ञक, अग्नितत्व, दिनबली, पित्त प्रकृति, पीतवर्ण, उष्ण स्वभाव, पूर्व दिशा की स्वामिनी, पुष्ट शरीर, क्षत्रिय वर्ण, अल्पसंतति और भ्रमणप्रिय राशि है। इसका प्रकृतिक स्वरूप मेष राशि जैसा है फिर भी इसमें स्वातंत्रय प्रेम और उदारता विशेष रूप से पायी जाती है। इससे हृदय का विचार किया जाता है।

राशि चक्र की पांचवीं राशि है सिंह राशि। इस राशि के जातकों के मूल स्वभाव की बात करें तो इनलोगों में गजब की नेतृत्व क्षमता होती है। खुद काम करने के बजाये लोगों से काम करवाना ज्यादा पसंद करते हैं। ये लोग न तो किसी की प्रशंसा करने में हिचकते हैं और न ही मुंह पर निंदा करने से डरते हैं। इस तरह से देखें तो काफी हद तक स्पष्टवक्ता होते हैं। आमतौर पर इस राशि के जातक दूसरों से मदद मांगने के बजाय दूसरों की सहायता करना ज्यादा पसंद करते हैं। यही वजह है कि कमजोर और असहाय लोगों की सहायता करने में हमेशा तत्पर होते हैं। दोस्त के रूप में एक ईमानदार दोस्त वहीं दुश्मन के रूप एक ताकतवर दुश्मन के रूप में सिद्व होते हैं।
   आशावादी सोच के साथ जीवने जीने की कला में निपुण होते हैं। इन्हें बहुत जल्दी गुस्सा आ जाता है पर उतनी ही तेजी से गुस्सा शांत भी हो जाता है। ऐसे लोगों की सबसे बड़ी खासियत यह कि ये कभी भी अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हटते और हमेशा कमजोर और डरे लोगों की मदद करते हैं।
  इनकी कमियों की चर्चां करें तो आय से अधिक खर्च करने की बुरी आदत होती है
सिंह राशि के लिए रचनात्मकता, आदर्शवाद, नेतृत्व, असीम उत्साह व महत्वाकांक्षा ही उनकी बड़ी संपत्ती है। ये अपने दृढ़विश्वास, भावना की उदारता और जर्बदस्त उर्जा के साथ सफल होने के लिए दृढ़ संकल्पित होते हैं।

इस राशि का पुरूष निष्कपट, सच्चा, यथार्थवादी होता है। ये वास्तविकता में विश्वास करते हैं तथा बहुत तीक्षण, उत्सुक, भावुक एवं अपने वातावरण को प्रभावित करने वाले होते हैं।

इस राशि की स्त्रियां  अधिक सुलझे हुए विचारों की होती हैं। ये हृदय की साफ, उदार, भावुक और  उन्मुक्त प्यार करने वाली होती है। निराशा के क्षणों में यह झुंझला उठती है। 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages