तान्हा जी : किस्सा यो़द्धा की बहादुरी का - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

तान्हा जी : किस्सा यो़द्धा की बहादुरी का

फिल्म - तान्हा जी, द अनसंग वारियर
निर्देशक - ओम राउत
मुख्य कलाकार - अजय देवगन, काजोल, सैफ अली खान, शरद केलकर

तान्हा जी, द अनसंग वरियर एक एसी फिल्म है जो मराठा यो़द्धा तान्हा जी मालुसरे की जीवनी पर आधरित है। साथ ही साथ शिवाजी समेत अन्य मराठा यो़द्धाओं की बहादुरी व शौर्य को आप परदे पर देख पायेंगे।

कहानी

कहानी की शुरूआत वर्ष 1647 के भारत के वर्तमान परिदृश्य से होती है। औरंगजेब पूरे देश में पांव पसारने का भरपूर प्रयत्न करता हैं। दिल्ली के बाद कोण्ढ़ाना राजगढ़ पर कब्जा के क्रम में तान्हाजी कैसे मुगलों को रोकते है।  यही है इस फिल्म की कहानी।
कहानी काफी खूसूरती से गढ़ी गयी है। शुरू से अंत तक यह फिल्म दर्शकों को बांधे रखती है। बैकग्राउंड की आवाज हमे परदे पर चल रही कहानी को बखूबी समझाती है। यही वजह है कि हम हरेक पात्र से पूरी तरह जुड़ जाते हैं।

अभिनय

तान्हाजी के किरदार में अजय देवगन की भूमिका कमाल की है। तान्हा जी का पात्र एक निष्ठावान, बहादूर यो़द्धा व स्वराज प्रेमी है। स्वराज से बढ़कर उसके लिए कुछ नहीं है। पर अपनों के प्रति अगाध प्रेम है। युद्ध में एक कठोर दुश्मन पर अंदर से कोमल व एक आदर्श पिता है। एक जगह तान्हाजी की पत्नी (पत्नी का रोल काजोल ने निभाया है) कहती है कि, ‘अपनी तलवारों से खून बहाने वाला योद्धा अपनी आंखें से पानी बहाता है तो कोई विश्वास नहीं करेगा‘। एक शूरवीर की पत्नी व एक भारतीय नारी के रूप में काजोल काफी जंचती हैं। नकारात्मक किरदारों मेे उदय भान यानी सैफ अली खान की इंट्री शतरंज के एक प्यादे के रूप में जिस तरह होती है  वह काबिलेतारिफ है। वह सीन काफी प्रभावी है। उनके चेहरे पर हैवानियत का भाव देखने लायक है। स्वराज का अभियान छेड़ने वाले शिवाजी महाराज के रूप में शरद केलकर का अभिनय थियेटर से बाहर निकलने के बाद भी याद रहता है। सभी का अभिनय उम्दा है।

गीत संगीत

‘सररर होलिका जले...मां हे भवानी...‘, ‘शंकरा रे शंकरा रे शंकरा रे शंकरा ...‘ दोनों गाने कर्णप्रिय हैं। इन गानों को सुनना व देखना दोनों सुखद अहसास दिलाता है। युद्ध के दौरान बैकग्राउंड में बजने वाला गीत, ‘दुश्मन कटेगा, धरती सजेगी...‘ काफी प्रभावी है। संवाद अदायगी भी खास है। सभी संवाद उस दौर को घ्यान में रख कर लिखे गये है जिस समय की यह घटना है। पूरी फिल्म में शायद ही अंग्रेजी भाषा का कोई शब्द  सुनने को मिला हो।

        फिल्म के सेट्स व विजुअल्स काफी अच्छे हैं। एक्शन सिक्वेंश भी काफी दमदार हैं। इस फिल्म को 3डी में देखने का अनुभव काफी अच्छा रहा। कुल मिलाकर यह फिल्म देखने लायक है।

मेरी राय में इस फिल्म की रेटिंग:

* * * *



                                                                                                                - दीपक मिश्रा, देशदुनियावेब


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages