अ ब्यूटीफुल डे इन द नेबरहुड - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

शुक्रवार, 17 जनवरी 2020

अ ब्यूटीफुल डे इन द नेबरहुड

अ ब्यूटीफुल डे इन द नेबरहुड
निर्देशन - मारियल हेलर
प्रमुख कलाकार - टाॅम हैंक्स, मैथ्यू रीस, सुसैन कलेजी वाॅटसन, क्रिस कपूर, टैमी ब्लैंचर्ड
अवधि - 109 मिनट
     कई बार रिश्तों में इतनी कड़वाहट आ जाती है कि उन्हें सुलझाने का ख्याल तक व्यक्ति के मन में नहीं आता। जिनसे आप प्यार करते हैं, उन्हें माफ करना, समझना, अपनाना, दयालु होना एक इंसान के लिए अति आवश्यक है। नहीं रिश्तों आयी दरार को कभी भी पाटा नहीं जा सकता।
      अ ब्यूटीफल डे इन द नेबरहुड यही संदेश देती है। फिल्म बच्चों के एजुकेशनल अमेरिकन टेलीविजन शो ‘मिस्टर रोजर्स नेबरहुड‘ के होस्ट फ्रेड रोजनर्स पर वर्ष 1998 में लिखे गए एक मैगजीन के आर्टिकल ‘कैन यू से ... हीरो से प्रेरित है। इस आर्टिकल को पत्रकार टाफम जुनोद ने एस्क्वायर मैगजीन के लिए लिखा था। फेंड रोजर्स के शो से जोड़कर फिल्म की कहानी को दर्शाया गया है।
      एस्क्वायर मैगजीन के इन्वेस्टिगेटिव पत्रकार लाॅयड वोगल मैथ्यू रीस के परिवार में उसकी पत्नी एंड्रिया सुसैन कलेजी वाॅटसन और एक बच्चा है। लाॅयड अपने पिता जैरी से नफरत करता है, क्योंकि वह उसकी बीमार मां को छोड़कर चले गए थे। पिता को गलती का अहसास है, लेकिन लाॅयड उसे माफ करने को तैयार नहीं है। बहन लाॅरेन्स टैमी ब्लैंचर्ड की शादी में दोनों के बीच इसी बात को लेकर हाथापाई भी हो जाती है।
   लाॅयड की एडीटर उसे प्ररेणादायक हीरोज की एक सीरिज के लिए फ्रेड रोजर्स टॅाम हैंक्स का इंटरव्यू करके 400 शब्दों का एक प्रोफाइल तैयार करने के लिए कहती है। इंटरव्यू के दौरान मिस्टर रोजर्स को पता चलता है कि लाॅयड और उसके पिता के बीच बहुत कड़वाहट है। मिस्टर रोजर्स उस कड़वाट को कैसे दूर करते हैं।  400 शब्दों का आर्टिकल पंद्रह हजार शब्दों का कैसे बन जाता है लाॅयड की जिंदगी कैसे बदलती है, कहानी इसी दिशा में आगे बढ़ती है।
                 फ्रेड रोजर्स बच्चों को अपने शो के जरिए प्रेरित किया करते थे। जीवन के प्रति सकरात्मक नजरिया रखने और बेहतर इंसान बनने का संदेश भी दिया करते थे। निर्देशिका मारियल हेलर इस संदेश को पहुंचाने में कामयाब रहीं। फ्रेड रोजर्स की प्रसिद्ध नेबरहुड ट्राली, उनके शो के सेट के डिजायन से लेकर कहानी को दर्शाने तक हर चीज पर उनकी पकड़ मजबूत थी। शुरू में फिल्म धीमी जरूर है लेकिन कहानी बांधे रखती है।
फ्रेड रोजर्स के किरदार में टाॅम हैंक्स काफी सहज लगते हैं। अपनी अदायगी, काॅस्टयूम्स, बोलने के अंदाज के जिरये वह फ्रेड रोजर्स को पर्दे पर आसानी से उतारते हैं।  पिता से उपर से नाराजगी और अंदर से प्यार वाली भावना को मैथ्यू रीस ने बेहतरीन तरीके से निभाया है। म्यूजीक बहुत बढ़िया है।
  सुसैन कलेजी वाॅटसन पत्नी के किरदार में जंची हैं। सख्त और टूटे हुए पिता के किरदार में क्रिस कूपर वास्तविक लगे हैं। म्यूजीक काफी अच्छा है।

रेटिंग  - 3.5

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages