जैसा रोग, वैसी दवा - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

बुधवार, 1 अप्रैल 2020

जैसा रोग, वैसी दवा


 आज एक प्रेरक कहानी साझा कर रहा हूं। इन कहानियों से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है। आश करता हूं कि आप भी इन कहानियों को काफी पसंद करेंगे।

 

जैसा रोग, वैसी दवा


एक डाॅक्टर था। वह रोगियों के साथ बहुत अच्छे तरीके से पेशा आता था तथा उनके प्रति हमेशा मन में दयभाव रखता था। यहां तक की रोगियों की सेवा को ही भगवान की सेवा समझता था। उसका नाम दूर-दूर तक फैल गया था। रोगी उसके यहां से अच्छे होकर ही लौटते।

         एक दिन डाॅक्टर के पास एक गरीब आदमी आया। वह बीमार था। डाॅक्टर ने उसे देखते ही समझ लिया कि इसका सबसे बड़ा रोग भोजन नहीं मिलना है। डाक्टर ने उसे अच्छी तरह खाना पिलाना शुरू कर दिया। कुछ ही दिनों में वह भला चंगा हो गया और डाक्टर से आज्ञा लेकर अपने घर चला गया।

उस गरीब आदमी के गांव में एक धनिक रहता था। उसका शरीर इतना भारी-भरकम था कि चलने में भी कठिनाई होती थी। उसे मालूम हुआ कि डाॅक्टर रोगियों की दवा बड़े प्रेम से करता है और खूब खिलाता-पिलाता है। फिर क्या था ! वह भी डाॅक्टर के पास दवा कराने के लिये पहुंच गया।

डाॅक्टर ने धनिक को अच्छी तरह देखा और समझ लिया कि इसे रोग नहीं है। इसकी सारी बीमारी उपवास कराने से भाग जायेगी। उसने उस व्यक्ति को रख लिया और दवा शुरू कर दी। सबसे पहले डाॅक्टर ने धनिक का घी-शक्कर और मैदा जैसी चीजें बंद करा दिया। फिर उपवास कराना शुरू किया। उन्हें उबली हुई तरकारी खाने के लिए दी जाने लगी।

डाॅक्टर का यह व्यवहार धनिक को बिल्कुल नहीं सुहाया। उसने बिगडकर कहा- ‘तुम गरीब मरीजों के साथ प्रेम का बरताव करते हो, उनपर दया दिखाते हो, उन्हें लड्डू तथा दूसरी अच्छी-अच्छी चीजें खाने के लिए देते हो और मुझे सिर्फ उबली तरकारी खिलाते हो
डाॅक्टर ने जवाब दिया - ‘ मैं तुमसे भी उतना ही प्रेम करता हूं, जितना एक गरीब से। मैं सबको एक आंख से देखता हूं। तुम्हारे शरीर का वजन बढ़ गया है, इसलिये तुम्हें घी-शक्कर खाना मना किया है। इससे तुम्हारा वजन घटेगा और तुम स्वस्थ हो जाओगे। मेरा यह काम तुम्हारे साथ मेरे प्रेम को प्रकट करता है। जिस गरीब को खाना न मिलता हो, उसे अच्छी तरह खिलाना ही उसपर प्रेम करना है।

हमारे सच्चे हितैषी सदैव हमें हितकारी उपदेश देते हैं, परंतु कई बार हमारी खराब आदतों के कारण उनके हितकारी वचन भी कटु एवं पक्षपातपूर्ण प्रतीत होते हैं।   आज एक प्रेरक कहानी साझा कर रहा हूं। इन कहानियों से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है। अभी हम सभी अपने अपने घरों में है। घरों से बाहर निकला खतरनाक है। ऐेसे में काफी समय होने के कारण मैं कुछ कहानियां साझा करना चाहता हूं। आश करता हूं कि आप भी इन कहानियों को काफी पसंद करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages