आठ जून से खुलेंगे तिरूपति, महाकाल समेत अन्य मंदिर - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

शनिवार, 6 जून 2020

आठ जून से खुलेंगे तिरूपति, महाकाल समेत अन्य मंदिर


देश के प्रमुख स्थलों को खोलने की रणनीति तय की जा रही है। ये मुख्य मंदिर आठ जून को खोल दिए जायेंगे हलांकि मंदिर प्रवेश के क्रम में कई पाबंदियां भी होंगी। हलांकि कुछ ऐसे राज्य भी हैं जहां मंदिर आदि  धर्मस्थल नहीं खोलने का निर्णय लिया है।

                 प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है तिरुपति बालाजी मंदिर। लगभग 80 दिन तक बंद रहने के बाद सोमवार, 8 जून से तिरुपति बालाजी मंदिर के दरवाजे श्रद्धालुओं के लिए खुलेंगे। 8 से 10 जून तक मंदिर के कर्मचारियों और उनके परिवार ही दर्शन कर पाएंगे। इसके लिए उन्हें भी ऑनलाइन टाइम स्लॉट बुक करना होगा। 11 जून से सुबह 6ः30 से शाम 7ः30 तक मंदिर में आम लोग दर्शन कर पाएंगे। एक दिन में केवल 6000 लोगों के दर्शन हो सकेंगे। हर घंटे में केवल 500 लोगों को अनुमति मिल पाएगी।

                  तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम् ट्रस्ट ने ये भी साफ किया है कि केंद्र सरकार की गाइड लाइन के मुताबिक 10 से कम और 65 साल से अधिक आयु वाले लोगों को दर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। मंदिर खुल गया है लेकिन इसमें अभी सिर्फ भगवान तिरुपति के ही दर्शन हो सकेंगे। परिसर के अन्य मंदिरों और स्वामी पुष्करिणी में लोग नहीं जा पाएंगे। मंदिर में कोविड . 19 के टेस्ट के लिए स्थायी कैंप होगा, जिसमें रोज 200 कर्मचारियों और श्रद्धालुओं का रेंडम टेस्ट होगा।

                  कुल 6000 लोगों में 3000 लोग वीआईपी टिकट पर ;300 प्रति व्यक्तिद्ध दर्शन कर सकेंगे। इसके लिए भी ऑनलाइन स्लॉट बुकिंग 8 जून को सुबह शुरू हो जाएगी। गौरतलब है कि तिरुपति बालाजी मंदिर 20 मार्च से बंद है।

वहीं दूसरी ओर
8 जून से मध्यप्रदेश स्थित बाबा महाकाल अपने भक्तों को फिर से दर्शन देंगे। भक्त सुबह 8 से शाम 6 बजे तक बाबा महाकाल को दूर से ही निहार सकेंगे। भस्मआरती के साथ अन्य आरतियों में भी भक्त शामिल नहीं हो पाएंगे। भक्तों को सैनिटाइजेशन और मास्क के साथ स्लॉट में भेजा जाएगा। ये सभी निर्णय शनिवार को श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति की बैठक में किए गए। इसके पहले शुक्रवार को जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति ;क्राइसिस मैनेजमेंट  ग्रुपद्ध की बैठक में 8 जून से मंदिर को खोलने का निर्णय लिया गया था। भक्तों को परेशानी न हो इसलिए मंदिर के साथ ही होटल, धर्मशाला, रेस्टोरेंट आदि भी खोल दिए जाएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages