अगले वर्ष हरिद्वार में होगा कुंभ का आयोजन, पास अनिवार्य - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

अगले वर्ष हरिद्वार में होगा कुंभ का आयोजन, पास अनिवार्य

भले ही कोरोना माहामारी ने कई आगामी कार्यक्रमो ने संशय व सवाल खड़ा कर दिया है पर एक बात तो तय हो गयी है कि अगले वर्ष कुम्भ मेले का आयोजन किया जायेगा। कुम्भ मेला 2021 अगले साल तय समय पर भव्य रूप से आयोजित किया जाएगा। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खुद इसकी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि सभी अखाड़ों के सन्त.महात्माओं के सहयोग और आशीर्वाद से मेले का आयोजन सफल होगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि हरिद्वार में अगले साल कुंभ का आयोजन तय समय पर ही होगा, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते संख्यात्मक लिहाज से यह नियंत्रित होगा। कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए इसबार श्रद्धालुओं को कुंभ में पास के आधार ही आने की अनुमति दी जाएगी। दरअसल यह कुंभ मेले के इतिहास में यह पहली बार होगा कि धार्मिक मण्डली में प्रवेश के लिए श्रद्धालुओं को पास जारी किए जाएंगे। यकीनन यह दुनिया में अपनी तरह का सबसे बड़ा आयोजन होगा। मुख्यमंत्री ने कुम्भ मेले का निर्माण कार्य 15 दिसंबर से पहले पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि पिछले साढ़े तीन साल में हमने विकास की गति तेज की है और भ्रष्टाचार पर नकेल कसी है और लोगों को पारदर्शी एवं स्वच्छ सरकार दी है।

 लॉकडाउन का कोई विचार नहीं 

 इसके अलावा 2010 कुम्भ मेले की तरह इस बार भी उतने ही क्षेत्रफल में कुम्भ मेले के आयोजन पर भी चर्चा हुई। साथ ही मंशा देवी हिल बाई पास सड़क को मेले के दौरान प्रयोग में लाए जाने और आंतरिक सड़कों के निर्माण में तेजी लाने के निर्देश दिए गए। सीएम ने बताया कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बावजूद राज्य में लॉकडाउन की कोई योजना नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा जहां मामले बढ़ेंगे। वहां कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा। 

 

 पांच मीटर चौड़ी सड़क से कम में नहीं चलेगा काम 

 वहीं, मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार सीएम ने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए चारधाम ऑलवेदर रोड का चौड़ीकरण जरूरी है। महज साढ़े पांच मीटर चौड़ी सड़क से काम नहीं चलेगा। सीमांत क्षेत्र में सुरक्षा और सैन्य गतिविधियों के सुचारू संचालन के लिए यह सड़क साढ़े सात मीटर चौड़ी होनी आवश्यक है। इस सिलसिले में सरकार की ओर से जल्द ही केंद्र के समक्ष सभी तथ्यों के साथ पक्ष रखा जाएगा।

 नीचे कुंभ मेला के महत्वपूर्ण स्नान का विवरण दे रहा हूं। बताया जाता है कि कुंभ मेला हरिद्वार 2021 के प्रतिस्पर्धी प्राधिकरण की अंतिम घोषणा के अनुसार स्नान की तिथियां अस्थायी  और परिवर्तन के अधीन हैं।

 14 जनवरी 2021, दिन - गुरूवार

 मकर सक्रांति (महत्वपूर्ण स्नान/स्नान) 

 

 28 जनवरी 2021, दिन- गुरूवार 

पौष पूर्णिमा (महत्वपूर्ण स्नान/स्नान) 

 

 11 फरवरी 2021, दिन गुरूवार 

 मौनी अमावस्या ;बहुत ही महत्वपूर्ण स्नान 

 

 16 फरवरी 2021, दिन मंगलवार

 पंच बसंती, (स्नान) 

 

 27 फरवरी 2021, दिन शनिवार 

माघ पूर्णिमा, संत रविदास जयंती . (महत्वपूर्ण स्नान/स्नान) 

 

11 मार्च 2021, दिन - गुरूवार 

महाशिव रत्रि (शाही स्नान)  

 

13 मार्च 2021, दिन - गुरूवार 

फाल्गुनी अमावस्या; (शाही स्नान) 

 

 28 मार्च 2021, दिन - रविवार 

फाल्गुन पूर्णिमा; (महत्वपूर्ण स्नान/स्नान)  

 

11 अप्रैल 2021, दिन - सोमवार 

चैत्र अमावस्या (शाही स्नान) 

 

12 अप्रैल 2021, दिन- सोमवार

 ैसोमवती अमावस्या (शाही स्नान)  

 

13 अप्रैल 2021, दिन - मंगलवार 

नव हिन्दू संवत्सर (महत्वपूर्ण स्नान) 

 

 14 अप्रैल 2021, दिन - बुधवार

 मेष संक्राति, (शाही स्नान) 

 

 21 अप्रैल 2021, दिन बुधवार 

रामनवमी, (महत्वपूर्ण स्नान) 

 

 27 अप्रैल 2021, दिन - मंगल

 चैत्र पूर्णमासी; (शाही स्नान)  

 

11 मई 2021, दिन मंगलवार

 वैशाख अमावस्या; (महत्वपूर्ण स्नान) 

 

 26 मई 2021, दिन बुधवार 

वैशाख पूर्णिमा; (महत्वपूर्ण स्नान)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages