छिन्नमस्तिका मंदिर: बिना मास्क मंदिर प्रवेश नहीं कर पायेंगे भक्त - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

सोमवार, 5 अक्तूबर 2020

छिन्नमस्तिका मंदिर: बिना मास्क मंदिर प्रवेश नहीं कर पायेंगे भक्त

छिन्नमस्तिका मंदिर
 झारखंड राज्य सरकार द्वारा सभी धार्मिक स्थलों के खोलने संबंधित दिशा निर्देश जारी करने के बाद राज्य के प्रमुख धर्मस्थलों की समितियां हरकत में आ गयी हैं। मंदिरों व धर्मशालाअें को पुनः खोलने की तैयारी शुरू हो गयी है। इसी क्रम में विश्व का दूसरा सबसे बड़ा शक्तिपीठ भी खुलने को ले पूरी तरह तैयार है। बता दें यह शक्तिपीठ रामगढ़ जिले के रजरप्पा में स्थित है साथ ही साथ यह छिन्नमस्तिका मंदिर के नाम से भी विख्यात है। हलांकि सरकार की गाइड लाइन के अनुसार मंदिर में  श्रद्धालुओं पर कई तरह की पाबंदियां रहेंगी। मंदिर न्यास समिति के अनुसार रजरप्पा मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। चेहरे पर बिना मास्क लगाये आने वाले भक्तों को मंदिर के अंदर प्रवेश नहीं कराया जाएगा। लोगों को भीड़ की स्थिति से बचना होगा। मंदिर में पूजा करने के लिए आने वाले को मास्क पहनने के साथ.साथ शारीरिक दूरी का भी हर हाल में पालन करना होगा। लोगों को जागरूक करने के लिए मंदिर के स्वयंसेवकों की भी ड्यूटी लगाई जाएगी। मंदिर के कोने.कोने पर सूचना बोर्ड भी लगाई जाएगी

 

 छिन्नमस्तिाका मंदिर रजरप्पा नामक खूबसूरत स्थल पर स्थित है। रजरप्पा से संबंधित यात्रा वृतांत पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - 

वृतांत : यात्रा दुनिया के दूसरे सबसे बड़े शक्तिपीठ की


शारदीय नवरात्र में भक्तों के लिए होगी विशेष व्यवस्था

बताते चलें कि नवरात्र के दौरान मां छिन्नमस्तिके मंदिर परिसर में भक्तगण ज्यादा संख्या में पहंुचते हैं लिहाजा नवरात्र के अनुष्ठान के लिए इस वर्ष नई नियम व्यवस्था बनाई जाएगी। इसकी रूपरेखा मंदिर प्रबंधन समिति की होने वाली बैठक में तैयार की जाएगी। 17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र का अनुष्ठान प्रारंभ हो रहा है। नवरात्र में हर वर्ष माता के इस ऐतिहासिक दरबार में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। स्थानीय भक्तों के अलावा कई राज्यों के दूरदराज से श्रद्धालु भी बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। ऐसे में मंदिर न्यास समिति के द्वारा इस नवरात्रि के अनुष्ठान की विशेष व्यवस्था की जाएगी। सरकार द्वारा दिए गए गाइडलाइन को ध्यान में रख कर ही मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए पूजा.अर्चना शुरू होगी।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages