भारतीय रेल व सरदार पटेल के विजन का हुआ संगम : प्रधानमंत्री - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

रविवार, 17 जनवरी 2021

भारतीय रेल व सरदार पटेल के विजन का हुआ संगम : प्रधानमंत्री

 ट्रेनों को हरी झंडी दिखाते पीएम
 विश्व की सबसे उंची प्रतिमा अर्थात गुजरात के केवड़िया स्थित स्टेचू आफ यूनिटी तक पहुंच पाना थोड़ा मुश्किल था हलांकि क्षेत्र से परिचित व स्थानीय लोगों को तो परेशानी नहीं होती थी पर दूसरे राज्यों से आने वाले पर्यटकों को स्थल के बारे में तथा वहां पहुंचने के साधनों के बारे जानकारी एकत्र करनी पड़ती थी। लेकिन 17 जनवरी 2021 से यहां पहंच पाना सरल व सुगम हो गया है। और हो भी क्यों न यात्रा का सबसे सरल व सुगम साधन भारतीय रेलवे की पहुंच केवड़िया तक हो गयी है। यही नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये स्टेच्यू आॅफ यूनिटी को जोड़ने वाली आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई। ये ट्रेनें देश के अलग- अलग आठ जगहों को केव़िड़या से जोड़ेगी। इस दौरान प्रधानमंत्री ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि यह भारतीय रेल और सरदार पटेल के विजन का संगम है।
   इस ब्लाॅग में मैनें स्टेच्यू आफ यूनिटी की यात्रा का अनुभव भी साझा किया है। यात्रा वृतांत पढ़ने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं 

यात्रा वृतांत : विश्व की सबसे उंची प्रतिमा की

 प्रधानमंत्री संबोधन

     कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि बीते सालों में रेलवे में व्यापक बदलाव किया गया। ये काम सिर्फ बजट बढ़ाना, घटाना व नई ट्रेनों की घोषणा करने तक सीमित नहीं रहा। स्टेच्यू आॅफ यूनिटी के बारे में बात करते हएु कहा कि अब स्टेच्यू आॅफ यूनिटी को देखने स्टेच्यू आॅफ लिबर्टी से भी ज्यादा प्र्यटक पहुंचने लगे हैं। लोकार्पण के बाद करीब पचास लाख लोग स्टेच्यू आॅफ यूनिटी को देखने पहुंच चुके हैं। यहां बहुत कुछ है जैसे प्र्यटकों को घुमाने के लिए एकता क्रूज है वहीं नौजवानों को साहस दिखाने के लिए राफ्टिंग का भी इंतजाम है। यानी बच्चे, युवा और बुजुर्ग सभी के लिए बहुत कुछ है। एक तरफ आयुर्वेद और योग पर आधारित आरोग्य वन है तो दूसरी तरफ पोषण पार्क। यही नहीं बढ़ते हुए पर्यटन के कारण केवड़िया के आदिवासी युवाओं को रोजगार मिल रहा है। यहां के लोगों के जीवन में तेजी से आधुनिक सुविधाएं पहुंच रही हैं।
उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और रेलमंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद रहे। ये ट्रेनें केवडिया अर्थात स्टेच्यू आॅफ यूनिटी को  वाराणसी, दादर, अहमदाबाद, हजरत निजामुद्दीन, रीवा, चेन्नई और प्रतापनगर से जोडेंगी। 

अब आइये जान लेते हैं कि किन किन ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई गई।

1.    09103्/04  केवड़िया -वाराणसी महामना एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
2.    02927/28   दादर-केवड़िया एक्सप्रेस (दैनिक)
3.    09247/48  अहमदाबाद-केवड़िया जनशताब्दी एक्सप्रेस (दैनिक)
4.    09145/46 निजामुद्दीन -केवड़िया संपर्क क्रांति एक्सप्रेस (द्विस्पताहिक)
5.    09105/06 केवड़िया -रीवा एक्सप्रेस (साप्ताहिक)
6.    09119/20 चेन्नई-केवडिया एक्सप्रसे (साप्ताहिक )
7.    09107/08 प्रतापनगर -केवडिया मेमू ट्रेन (दैनिक)
8.    09109/10 केवडिया -प्रतापनगर मेमू ट्रेन (दैनिक)

इतिहास में पहली बार

क्हा जा रहा है कि इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है कि जब एक साथ देश के अलग-अलग कोने से एक ही जगह के लिए इतनी ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई गयी हो। केवडिया में दिख रही है एक भारत-श्रेष्ठ भारत की तस्वीर।


बताते चलें कि केवडिया स्थित नर्मदा नदी तट पर बनी लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा को विश्व की सबसे उंची प्रतिमा होने का गौरव प्राप्त है। प्रतिमा उद्घाटन 31 अक्टूबर 2018 को भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा सरदार वल्लभ भाई पटेल की 143वीं जयंती पर किया गया था। अब यह प्रतिमा देश की एकता का प्रतीक बन गयी है। इस प्रतिमा की उंचाई 182 मीटर अर्थात 597 फीट है।

अगर आप इस स्थल से संबंधित विडियो देखना चाहते हैं तो नीचे की लाइन को करें क्लिक 

Journey of Statue of unity, Gujrat

                                                                                                                   - दीपक मिश्रा, देशदुनियावेब
 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Pages