संक्राति पर मधुबन आने वाले को लगाना होगा मास्क - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

गुरुवार, 14 जनवरी 2021

संक्राति पर मधुबन आने वाले को लगाना होगा मास्क

File photo यूं तो मकर संक्राति एक खगोलीय घटना है पर इसका एक अलग महत्व है। मकर संक्रांति में भगवान भास्कर मकर राशि में प्रवेश कर जायेंगे। मकर संक्रांति के अवसर पर विभिन्न पवित्र नदियों व अन्य जलस्त्रोतों में स्नान का काफी महत्व है। इस अवसर पर खिचड़ी का अलग महत्व है, खिचड़ी खाया व खिलाया जाता है। यह पर्व पूरे देश में विभिन्न स्वरूपों में मनाया जाता है। कुछ इसी तरह पूरे उत्साह मधुबन में मकर संक्राति का उत्सव मनाया जाता है। इस अवसर पर यहां भव्य मेला का भी आयोजन किया जाता है। जी हां, मै बात कर रहा हूं गिरिडीह जिला स्थित मधुबन की। बर्षों से मकर संक्राति के अवसर पर यहां मेला लगता रहा है और इस मेले में हजारों की तादाद में दर्शनार्थी यहां पहुंचते हैं। पर कोविड के कारण प्रशासन ने इस वर्ष मेला की अनुमति नहीं दी है। ऐसे में जिस मैदान में मेला लगता था वहां इस बार न तो दुकानें सजेंगी और न ही किसी प्रकार का झूला लगेगा। जाहिर सी बात है जब मेला लगना ही नहीं है तो फिर किसी भी प्रकार की गतिविधि की अनुमति कैसे दी जा सकती है। प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में सैलानी यहां मेला देखने पहुंचते थे। 13 तारीख से ही मेला देखने आने वाले लोगों का आवागमन शुरू हो जाता था। पर 15 जनवरी को लोगों का हुजूम उमड़ पड़ता था। यहां तक सड़क या मंदिर क्षेत्र में पैर रखने की जगह नहीं होती थी। बताते चलें मधुबन जैन धर्मावलंबियों का एक विख्यात तीर्थस्थल ऐसे में पारसनाथ पर्वत के अलावा मधुबन में ही दर्जनाधिक जैन मंदिर है। इन मंदिरों की भव्यता व सुंदरता इन्हें लुभाती हैं। उसी भीड़ व अनुभव के आधार पर जिला प्रशासन व मकर संक्राति मेला समिति को ऐसा लगता है कि भले मेला का आयोजन न हो पर संक्रांति के मौके पर यहां आने वाले दर्शनार्थी तो आयेंगे ही। इसी दृष्टिकोण से जिला प्रशासन ने मकर संक्रांति को ध्यान में रखते हुए पारसनाथ मधुबन के लिए गाईडलाइंस जारी किया है। इस दौरान कहा गया है कि मधुबन आने वाले हरेक व्यक्ति को मास्क लगाना अनिवार्य होगा साथ ही साथ साॅशल डिस्टेंस का भी पालन करना होगा। मधुबन व पारसनाथ मांसहार व मद्यपान वर्जित क्षेत्र है लिहाजा इसका उल्लंघन दंडनीय होगा। वहीं दूसरी ओर पारसनाथ मकर संक्राति मेला समिति भी समीक्षात्मक बैठक कर चुकी है। इस अवसर पर समिति के सदस्य तैनात रहेंगे ताकि यहां आने वाले दर्शनार्थियों को परेशाना न हो और पार्किंग आदि व्यवस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages