समाज के उत्कर्ष को ले देवभूमि में होगा सराक महाधिवेशन का आयोजन - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

बुधवार, 17 मार्च 2021

समाज के उत्कर्ष को ले देवभूमि में होगा सराक महाधिवेशन का आयोजन

 

आचार्य सुयश सूरी जी

DDW DESK, : जैन धर्म के प्रसिद्ध तीर्थस्थल मधुबन स्थित अखिल भारतीय सराक जैन संगठन के संस्थापक आचार्य श्री सुयश सूरी जी महाराज मधुबन पहुंच गये हैं जहां उनके सान्निध्य में सराक महाधिवेशन सह फागण महोत्सव का आयोजन किया जायेगा। कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार कर ली गयी है। इस कार्यक्रम में झारखंड, बिहार व बंगाल के विभिन्न हिस्सों से सराक समाज के सदस्य भाग लेंगे।

     बताया जाता है कि होली के अवसर पर सराक भवन परिसर में सराक महाधिवेशन का आयोजन किया जायेगा। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य सराक समाज को न केवल धर्म व इसके कर्तव्यों के प्रति जागरूक करना है बल्कि उन्हें उनके इतिहास से भी अवगत कराना है। इस बाबत आचार्य श्री सुयश सूरी जी महाराज ने बताया कि सराक संगठन की स्थापना सराक जाति के उत्थान के लिए किया गया था जो कि मूल रूप से जैन धर्म को मानने वाले हैं। भगवान महावीर के निर्वाण के करीब ढ़ाई सौ साल बाद धीरे-धीरे पूर्व भारत में जैन धर्म का प्रभाव कम हो जाने से श्रावक वर्ग के लोग सराक के रूप में जाने व पहचाने जाने लगे। अंग्रेज शासन में उपासना आदि की दृष्टिकोण से वे जैन धर्म से कट गए लेकिन व्यवहारिक दृष्टिकोण से जैन धर्म के नियमों का पालन करते रहे। अपने स्थापना के साथ ही अलग-अलग तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करते हुए, सराक संगठन  सराक समाज के विकास हेतु निरंतर कार्य करता रहा है। आर्थिक व सांस्कृतिक विकास के क्रम में इस वर्ष से होली के अवसर पर सराक सम्मेलन का आयोजन किया जायेगा।

 


होली के अवसर पर होगा तीन दिवसीय कार्यक्रम

होली के अवसर पर मधुबन में चहल-पहल का माहौल होता है। विभिन्न संस्थाओं में तरह-तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। देश के विभिन्न जगहों से तीर्थयात्रियों का आगमन होता है और ठीक इसी माहौल में यहां भी ऐसे कार्यक्रम का आयोजन किए जायेगा जिसमें धर्म के राह पर चल रहे लोगें को धार्मिक व अध्यात्मिक पाठ पढ़ाया जायेगा। कार्यक्रम की शुरूआत 27 मार्च को होगी जबकि समापन 29 मार्च को होगा।

 

कार्यक्रम स्थल

आदर्श परिवार समाज के सूत्रों की मिलेगी जानकारियां

इस सम्मेलन में समाज के सदस्यों को नैतिक, बौद्धिक, सामाजिक, अध्यात्मिक विद्या के साथ-साथ आदर्श परिवार समाज के सूत्रों की जानकारियां दी जायेगी। विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षण तथा चर्चा-परिचर्चा की जानी है। कुल मिलाकर सराक समाज के उत्कर्ष की ही बातें होंगी, समस्याओं पर मंथन होगा तथा समाधान निकालने की कोशिश होगी।

 

 सराक क्षेत्रों से पहुचेंगे भक्तगण

इस कार्यक्रम को ले झारखंड, बंगाल के सराक क्षेत्रों में व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। यही वजह है कि भारी संख्या में लोगों के पहुंचनें की संभावना जतायी जा रही है। जामताड़ा, बोकारो, पुरूलिया, रांची समेत दर्जनों ऐसे जगह हैं जहां से सराक समाज के सदस्य इस कार्यक्रम में शामिल होंगे।

 

सराक भवन में प्रतिष्ठित भगवान की प्रतिमायें

आचार्य श्री के दिशा निर्देश में होगा कार्यक्रम का आयोजन

अध्यात्मिक व बौद्धिक स्तर पर बदलाव लाने को ले आयोजित इस सम्मेलन के सभी कार्यक्रम आचार्य सुयश सूरीश्वरजी महाराज के दिशा निर्देश में संपन्न होंगे। हलांकि इस कार्यक्रम में आचार्य श्री की शिष्या पुण्र्यहर्षलता श्री जी महाराज आदि ठाणा भी उपस्थित रहते हुए श्रद्धालुओं को धर्म का पाठ पढ़ायेंगे। वहीं समाज के अग्रिम पंक्ति में बैठे लोग से भी सुझाव लिए जायेंगे।बताते चलें कि कार्यक्रम के आयोजक श्री सराक जैन प्राचीन महासंघ, शिखरजी है।

 

 

 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Pages