12 अप्रैल को है सोमवती अमावस्या, जानें महत्व - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

रविवार, 11 अप्रैल 2021

12 अप्रैल को है सोमवती अमावस्या, जानें महत्व

 

12 अप्रैल को सोमवार है और सोमवार के साथ-साथ अमावस्या भी। सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते है। ऐसे में 12 अप्रैल का दिन कभी खास है। इस वर्ष का प्रथम और अंतिम सोमवती अमावस्या यही है। इस दृष्टिकोण से भी यह सोमवती अमावस्या काफी महत्वपूर्ण है।

वाराणसी से प्रकाशित पंचांगों के अनुसार अमावस्या तिथि की वृद्धि हो गयी है। ऐसे में स्नान दान एवं श्राद्ध की अमावस्या का मान 11 अप्रैल को होगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसारए अमावस्या के दिन लोग पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए पिंडदान व तर्पण करते हैं। कहा जाता है कि इस दान का फल दोगुना मिलता है। वहीं 12 अप्रैल को स्नान दान सहित सोमवती अमावस्या का पर्व योग बन रहा है।

सोमवती आवास्या का विशेष महत्व

सोमवती के दिन स्नान दान व पूजन का काफी महत्व है। इस दिन सौभाग्य वृद्धि की कामना को लेकर स्त्रियां पीपल वृ़क्ष में भगवान बिष्णु को प्रतिष्ठित मानते हुए पीपल वृक्ष की 108 या यथाशक्ति परिक्रमा करती है। माना जाता है कि इस दिन पीपल वृक्ष की पूजा सौभाग्य को बढ़ाने वाला होता है।

इस दिन भगवान शिव की भी की जाती है पूजा

इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें। संभव हो तो इस दिन पवित्र नदियों में स्ना करें। आसपास के शिवालयों में जाकर या फिर घर के मंदिर में ही संकल्प करते हुए व्रत रखें या फिर बिना व्रत रखें ही पूजन करें। दीप प्रज्वलित करें तथा भगवान का ध्यान करते हुए विधिवत पूजा करें। अगर संभव हो तो इस दिन व्रत करें। जानकारों का मानना है कि  सोमवती अमावस्या के व्रत का बहुत अधिक महत्व होता है।
वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजन कर पाने में असमर्थ हो तो आप ऊॅं नमः शिवाय का जप भी कर सकते हैं।

सोमवती अमावस्या के दिन क्या नहीं खाना चाहिए


अमावस्या तिथि पर पितरों का श्राद्ध वाले व्यक्ति को तिल का तेल, लाल रंग का साग तथा कांसे के पात्र में भोजन करने से परहेज करना चाहिए।

अमावस्या के दिन क्या दान करना चाहिए


शास्त्रों के अनुसार अमावस्या के दिन किसी जरुरतमंद को अनाज, खाने की चीजें या फिर वस्त्र दान करने चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से पुण्य मिलता है।

 

                                                                                                                        दीपक मिश्र, देशदुनियावेब

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Pages