अतरंगी रे : फिल्मदर्शकों के मिजाज को चकाचक करने की भरपूर कोशिश - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

शुक्रवार, 24 दिसंबर 2021

अतरंगी रे : फिल्मदर्शकों के मिजाज को चकाचक करने की भरपूर कोशिश

 Movie review in Hindi : Atrangi re 

 दीपक मिश्रा, देशदुनियावेब : डिज्नी प्लस हाॅटस्टार पर 24 दिसंबर को रिलीज हुई बहुप्रतिक्षित हिंदी फिल्म ‘अतरंगी रे‘ ने दर्शकों के माइंड को चकाचक करने की भरपूर कोशिश की है। और यह कोशिश कितनी सफल है इसका सटीक विश्लेषन तो आप फिल्म देखने के बाद ही कर पायेंगे। ट्रेलर देखने के बाद आप जो अनुमान लगा रहे हैं वह गलत भी हो सकता है, फिल्म की कहानी आपके अनुमान के विपरित भी हो सकती है। इस फिल्म में प्रेमी व पति के बीच चक्करघिन्नी बनी प्रेम कहानी है तो उस रोमांस में काॅमेडी का जबर्दस्त तड़का भी है। जब एक दर्शक इमोशनल हो रहा होता है तभी अचानक से आयी काॅमेडी एक नया अनुभव दे कर जाती है।। अभिनय, गीत- संगीत सभी दमदार है। यहां रोमांस, इमोशन, ड्रामा सबकुछ है साथ में मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ा एक पहलू भी।

  

                 सबसे पहले कहानी की बात करे तो शुरू के ही दृश्य में हम सीवान जंक्शन देखते हैं और आसानी से समझ जाते हैं कि अब जो कुछ होने वाला है उसका संबंध बिहार से है। कहानी आगे बढ़ती है और इसी क्रम में रिंकू (सारा अली खान) की जबर्दस्ती शादी विशु (धनुष) से कर दी जाती है। उसी स्थिति में जब अगले दो दिनों में ही विशु की मंगनी है। इधर, भले ही जबर्दस्ती शादी करा दी गयी हो फिर भी विशु को रिंकू से कोई गिला शिकवा नहीं है। जबर्दस्ती ही सही पर उसकी पत्नी है और ऐसे में वह रिंकू की प्रतिष्ठा व इज्जत को अपनी प्रतिष्ठा मानता है जैसे कि हरेक पति को मानना चाहिए। लेकिन रिंकू को अपने प्रेमी सज्जाद अली खान (अक्षय कुमार) की प्रतीक्षा है जिससे वह बेइंतहां मोहब्बत करती है। अब रिंकू किसकी होती है यही इस फिल्म की कहानी है। भले ही यह सब आपको साधारण व सहज लग रहा हो पर यकीन मानिए यह ॅिफल्म आपको कई बार चैंकाएगी।
 

          एक तेजतर्रार एवं बिहारी पृष्ठभूमि के पात्र में सारा अली खान का दमदार अभिनय है। उनकी इस अभिनय दक्षता ने फिल्म में जान डाल दी है। धनुष का चरित्र तमिलनाडु का है और हिंदी, अंग्रेजी, तमिल मिश्रित संवाद से काॅमेडी रचने की कोशिश की गयी है जो कभी- कभी काम भी करती है। अक्षय कुमार अपने स्टारडम के शिखर पर हैं। उनके अभिनय पर कुछ लिखने की जरूरत ही नहीं है। हलांकि कहीं-कहीं ओवरएक्टिंग प्रतीत होती है। इसके अलावे अन्य किरदार भी प्रभावित करते हैं।

इरशाद कामिल और ए आऱ रहमान ने मिलकर फिर एक बार कमाल किया है। श्रेया घोषाल ने भी लंबे अरसे बाद ‘चका-चक, चका-चक हूं मैं ...'  में चौंकाया है। राशिद अली की आवाज 'तूफान की सर्दी' का अलग एहसास देती है
 

       हलांकि एक समय के बाद कहानी धीमी लगने लगती है। एक ही चीज की बार-बार पुनरावृत्ति से बोरियत होने लगती है। फिर भी फिल्म देखने लायक है।
 फिल्म - अतरंगी रे
कलाकार - अक्षय कुमार, धनुष, सारा अली खान, सीमा बिस्वास और आशीष वर्मा
लेखक - हिमांशु शर्मा
निर्देशक - आनंद एल राय
निर्माता - भूषण कुमार ए आनंद एल राय ए हिमांशु शर्मा और अक्षय कुमार
ओटीटी  - डिज्नी प्लस हॉटस्टार
रेटिंग  - पांच में से चार स्टार





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages