फिल्म समीक्षा : वेल्ले, Movie review of 'Velle' in Hindi - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

शनिवार, 11 दिसंबर 2021

फिल्म समीक्षा : वेल्ले, Movie review of 'Velle' in Hindi

दीपक मिश्रा, देशदुनियावेब
: इस सप्ताह भी एक रीमेक फिल्म रिलीज हुई है और इस फिल्म का नाम है ‘वेल्ले‘। फिल्म वेल्ले वर्ष 2019 में रिलीज तेलुगु फिल्म ब्रोचेबरुरा की आधिकारिक रीमेक है। वेल्ले तीन वेल्लों की कहानी है। इन वेल्लों की मानसिकता  व नादानियां भले ही कभी-कभी चेहरे पर हंसी का भाव ला देगी पर ऐसा भी नहीं है कि आप इसे फूल ऐंटरटेनमेंट का डोज मान सकते हैं।

             आइये बात शुरू करते हैं फिल्म की कहानी से। तीन वेल्ले हैं अर्थात 12वीं कक्षा के तीन छात्र राहुल (करण देओल) रमेश उर्फ रैंबो (सावंत सिंह प्रेमी) और राजू (विशेष तिवारी)। इनहें पढ़ाई में मन नहीं लगता है। स्कूल के प्रिंसिपल राधे श्याम (जाकिर हुसैन) की बेटी रिया (आन्या सिंह) उनकी सहपाठी है। रिया भी पढ़ाई में ठीक वैसे ही है जैसे वे तीनो वेल्ले। रिया की मां नहीं है और पिता कड़क मिजाज के हैं। पिता के साथ अच्छे संबंध न होने के कारण उसकी दोस्ती उन तीनों दोस्तों से हो जाती है। दूसरी ओर ऋषि सिंह (अभय देओल) डायरेक्टर बनना चाहता है। कहानी सुनाने को लेकर उसकी मुलाकात लोकप्रिय अभिनेत्री रोहिणी (मौनी राय) से होती है। रिया डांसर बनना चाहती है। और सफल होने के लिए पैसे की जरूरत पड़ती है। पैसे की कमी को पूरा करने के लिए वह अपने ही अपहरण की साजिश रच लेती है। साजिश के तहत वे रिया का अपहरण कर भी लेते हैं लेकिन इसी क्रम में रिया का सचमूच अपहरण हो जाता है। उसके बाद रिया अपहरणकर्ताओं के चंगुल से कैसे बाहर निकलती है तथा आगे क्या होता है यह सब जानने के लिए तो आपको फिल्म देखनी होगी।
 

              फिल्म का म्यूजिक रोचक कोहली, जसलीन रॉयल और युग भुसाल ने कम्पोज किया है। फिल्म में 6 गाने हैं जो आज के समय के हिसाब से थोड़े ज्यादा लगते हैं। हालांकि ये गाने सुनने में अच्छे लगते हैं।
करण देओल इम्प्रेसिव हैं। देओल परिवार के नए स्टार को देखना चाहते हैं तो यह फिल्म आपके लिए है। अभय देओल के लिए फिल्म में करने के लिए कुछ खास नहीं है। हालांकि अपनी दमदार अदायगी से वह अपने किरदार को जानदार बनाते हैं। आन्या सिंह चुलबुली और संजीदा दोनों ही किरदारों में प्रभावित करती हैं। सावंत सिंह रोशन और विशेष तिवारी का अभिनय उल्लेखनीय है। मौनी राय ग्लैमरस दिखी हैं।
 

                      फिल्म का विषय दिलचस्प है मगर कहानी में बिखराव है। किरदारों को समुचित तरीके से गढ़ा नहीं गया है। यही वजह है कि स्क्रीनप्ले दमदार नहीं बन पाया है। इंटरवल के बाद कहानी गति पकड़ती है। तब कहानी में कई ट्विस्ट और टर्न आते हैं। फिल्म के डायलाग बीच .बीच में हास्य का पुट लाते हैं।
 

फिल्म रिव्यू      : वेले

प्रमुख कलाकार : करण देओल, आन्या सिंह, अभय देओल, सावंत सिंह प्रेमी, विशेष तिवारी, मौनी रॉय, जाकिर हुसैन, राजेश कुमार, महेश ठाकुर

निर्देशक           : देवेन मुंजाल

अवधि             : 124 मिनट

स्टार               :  पांच में से तीन




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages