एकांत घर में डर से संघर्ष करते मां बेटे की कहानी है ‘द वेस्टलेंड‘ ( The wastelland movie review) - deshduniyaweb

deshduniyaweb

Local, National and International News

Breaking

शुक्रवार, 7 जनवरी 2022

एकांत घर में डर से संघर्ष करते मां बेटे की कहानी है ‘द वेस्टलेंड‘ ( The wastelland movie review)

Movie review of a horror movie, The wasteland 

 

दीपक मिश्रा, देशदुनियावेब : हाॅरर फिल्म 'द वेस्टलेंड' ओटीटी प्लेटफार्म, नेटफ्लिक्स में 6 जनवरी 2022 को रिलीज की गयी। इसे साइक्लोजिकल थ्रिलर भी कहा सकता है। डेविड कैसाडेमुंट द्वारा निर्देशित यह फिल्म हमे शुरू से ही डराने का प्रयास करती है और अंत तक करते रह जाती है यही वजह है कि हमें डरा नहीं पाती है। हम सनसनी फैलाने वाली बैकग्राउंड म्यूजीक के  आदी हो जाते हैं और इनका असर कम होने लगता है। अगर आप केवल डरने के लिए इस फिल्म को देखना चाहते हैं तो हो सकता है यह आपको निराश करे। हलांकि और कोई दूसरा कारण भी नहीं है जिसके लिए आप यह फिल्म देखें। हां, 19वीं शताब्दी का एक एकांत पुराना घर, बर्फीली तेज हवा, कुछ खरगोश, मोमबत्ती व लैंप की रौशनी में डरते फिल्म के पात्रों को देखने के लिए देख सकते हैं।
       फिल्म की कहानी के बारे में बात करूं तो एक दंपति व उनका एक पुत्र कहीं एक एकांत घर में रहते हैं। उन्हें इस बात का अंदेशा है कि एक अज्ञात शैतान या आत्मा आप जो कहें उनपर हमला कर देगा। शुरू में हम देखते हैं कि पिता सल्वदार (राॅबर्ट अलामो) अपने बेटे डीयेगो (असीर फ्लोर्स) को निडर होना सिखाता है, खरगोशों को मारना सिखाता है लेकिन उसकी मां लूसिया (इनमा कुएस्टा) कहती है कि अभी उसकी उम्र ये सब करने की नहीं हुई है। लेकिन उन्हें इस बात का अंदेशा रहता है कि शैतान उन पर हमला कर देगा उन्हे सचेत रहने की जरूरत है। इसी बीच एक नाव बहकर आ जाती है जिसमे एक घायल व्यक्ति होता है। सल्वदार उसका इलाज करता है पर इस सहायता के बावजूद भी वह अजनबी डियेगो और उसकी मां को मारना चाहता है। उन दोनों पर गोली चलाने वाला ही होता है कि सल्वदार उसे मार डालता है। उसके पास से कुछ सामान बरामद होता है जिसे सल्वाद उस व्यक्ति के परिजनों को ढूंढ कर देने उस घर से निकल जाता है। उसके बाद से ये दोनों मां-बेटे डरने लग जाते हैं। उस शौतान से वे दोनो कैसे लड़ पाते हैं, शैतान मरता है भी या नहीं। बस यही कहानी है।
  यू ंतो फिल्म में शैतान व अजनबी  मिलाकर कुल पांच पात्र हैं। पर फिल्म के एक बडे हिस्से में हम केवल दो ही पात्रों को देखते है। एक समय के बाद बिना कोई कारण दोनों का डरना आपको बोर करने लगता है। आप समझ ही नहीं पाते हैं कि आखिर वे डर किस कारण से रहे हैं। डर का कारण यानी शैतान हमें क्लाइमेक्स में ही दिखाई देता है वह भी कुछ सेकेंड के लिए। पात्र से भी हम जुड़ नहीं पाते हैं और न ही यह फिलम हमें भावूक कर पाती है।
    अभिनय की बात करें तो कलाकरों का अभिनय दमदार था। खास कर डियेगो का और यह पात्र ही इस फिल्म में दर्शकों का आंख, कान है।

मूवी - द वेस्टलेंड

कलाकार - राॅबर्ट अलामो, असीर फ्लोर्स व इनमा कुएस्टा

अवधि  - 1 घंटा 32 मिनट

ओटीटी - नेटफ्लिक्स 

रेटिंग - पांच में से दो स्टार



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Pages